Home » भजन: बिन पानी के नाव I Bhajan: Bin Pani Ke Naav | भारत की अग्रणी गीत गीत साइट

भजन: बिन पानी के नाव I Bhajan: Bin Pani Ke Naav | भारत की अग्रणी गीत गीत साइट

by Brahma Aditya

भजन: बिन पानी के नाव I Bhajan: Bin Pani Ke Naav | गाने के बोल हर दिन अपडेट होते हैं


Add To Favorites

बिन पानी के नाव खे रही है,
माँ नसीब से ज्यादा दे रही है ॥

भूखें उठते है भूखे तो सोते नहीं,
दुःख आता है हमपे तो रोते नहीं,
दिन रात खबर ले रही है,
माँ नसीब से ज्यादा दे रही है ॥

उसके लाखों दीवाने बड़े से बड़े,
उसके चरणों में कंकर के जैसे पड़े,
फिर भी आवाज मेरी सुन रही है,
माँ नसीब से ज्यादा दे रही है ॥

मेरा छोटा सा घर महलों की रानी माँ,
मेरी औकात क्या महारानी है माँ,
साथ ‘बनवारी’ माँ रह रही है,
माँ नसीब से ज्यादा दे रही है ॥

ज्यादा कहता मगर कह नहीं पा रहा,
आंसू बहता मगर बह नहीं पा रहा,
दिल से आवाज ये आ रही है,
माँ नसीब से ज्यादा दे रही है ॥

बिन पानी के नाव खे रही है,
माँ नसीब से ज्यादा दे रही है ॥

यह भी जानें

Bhajan Mata Rani BhajanNavratri BhajanMaa Sherawali BhajanDurga Puja BhajanJagran BhajanMata Ki Chauki BhajanGupt Navratri BhajanMaa Durga BhajanMata BhajanAshtami BhajanMahalaya BhajanAmbe BhajanMaa Jagdambe BhajanMata Ki Bhajan Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!


इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites


* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें।

और भी बेहतरीन गाने के बोल यहां देखें: यहां देखें

विषय से संबंधित खोजें भजन: बिन पानी के नाव I Bhajan: Bin Pani Ke Naav

#भजन #बन #पन #क #नव #Bhajan #Bin #Pani #Naav

भजन: बिन पानी के नाव I Bhajan: Bin Pani Ke Naav

https://1.sotailoc.com आशा है कि यह जानकारी आपके लिए बहुत उपयोगी मूल्य लेकर आई है।

आपका बहुत बहुत धन्यवाद

0 comment

You may also like

Leave a Comment