Home » भजन: ​मेरे उठे विरह में पीर – Bhajan: Mere Uthe Virah Me Pir | भारत की अग्रणी गीत गीत साइट

भजन: ​मेरे उठे विरह में पीर – Bhajan: Mere Uthe Virah Me Pir | भारत की अग्रणी गीत गीत साइट

by Brahma Aditya

भजन: ​मेरे उठे विरह में पीर – Bhajan: Mere Uthe Virah Me Pir | गाने के बोल हर दिन अपडेट होते हैं


Add To Favorites

मेरे उठे विरह में पीर,
सखी वृन्दावन जाउंगी ॥

श्लोक
सब द्वारन को छोड़ के,
श्यामा आई तेरे द्वार,
श्री वृषभान की लाड़ली,
मेरी और निहार ॥

मेरे उठे विरह में पीर,
सखी वृन्दावन जाउंगी,
मुरली बाजे यमुना तीर,
सखी वृन्दावन जाउंगी ॥

श्याम सलोनी सूरत पे,
दीवानी हो गई,
अब कैसे धारू धीर सखी,
सखी वृन्दावन जाउंगी ॥

छोड़ दिया मेने भोजन पानी,
श्याम की याद में,
मेरे नैनन बरसे नीर,
सखी वृन्दावन जाउंगी ॥

इस दुनिया के रिश्ते नाते,
सब ही तोड़ दिए,
तुझे कैसे दिखाऊं दिल चिर,
सखी वृन्दावन जाउंगी ॥

नैन लड़े मेरे गिरधारी से,
बावरी हो गई,
दुनिया से हो गई अंजानी,
सखी वृन्दावन जाउंगी ॥

मेरे उठे विरह में पीर,
सखी वृन्दावन जाउंगी,
मुरली बाजे यमुना तीर,
सखी वृन्दावन जाउंगी ॥

यह भी जानें

Bhajan Shri Krishna BhajanBrij BhajanBaal Krishna BhajanBhagwat BhajanJanmashtami BhajanLaddu Gopal BhajanRadhashtami BhajanIskcon Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!


इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites


* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें।

और भी बेहतरीन गाने के बोल यहां देखें: https://1.sotailoc.com/Lyric

विषय से संबंधित खोजें भजन: ​मेरे उठे विरह में पीर – Bhajan: Mere Uthe Virah Me Pir

#भजन #मर #उठ #वरह #म #पर #Bhajan #Mere #Uthe #Virah #Pir

भजन: ​मेरे उठे विरह में पीर – Bhajan: Mere Uthe Virah Me Pir

https://1.sotailoc.com/ आशा है कि यह जानकारी आपके लिए बहुत उपयोगी मूल्य लेकर आई है।

आपका बहुत बहुत धन्यवाद

0 comment

You may also like

Leave a Comment