Home » भजन: लाल ध्वजा लहराये रे, मैया तोरी ऊंची पहड़िया – Bhajan: Lal Dhwaja Lahraye Re Maiya Teri Unchi Pahadiya | भारत की अग्रणी गीत गीत साइट

भजन: लाल ध्वजा लहराये रे, मैया तोरी ऊंची पहड़िया – Bhajan: Lal Dhwaja Lahraye Re Maiya Teri Unchi Pahadiya | भारत की अग्रणी गीत गीत साइट

by Brahma Aditya

भजन: लाल ध्वजा लहराये रे, मैया तोरी ऊंची पहड़िया – Bhajan: Lal Dhwaja Lahraye Re Maiya Teri Unchi Pahadiya | गाने के बोल हर दिन अपडेट होते हैं


Add To Favorites

लाल ध्वजा लहराये रे,
मैया तोरी ऊंची पहड़िया ॥

लोंग इलायची के बीड़ा लगाए,
चम्पा चमेली के हार बनाये,
लाल अनार चड़ाए रे,
मैया तोरी ऊंची पहड़िया ॥

लाल गुलाल से लाल भये है,
लाल तुम्हारे निहाल भये है,
मैया के रंग रंग आये रे,
मैया तोरी ऊंची पहड़िया ॥

‘पदम्’ सुमर मैया तोरे जस गाये,
चरणों मे तोरे शीश झुकाये,
गीत सुमन बरसाए रे,
मैया तोरी ऊंची पहड़िया ॥

लाल ध्वजा लहराये रे,
मैया तोरी ऊंची पहड़िया ॥

दुर्गा चालीसा | आरती: जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी | आरती: अम्बे तू है जगदम्बे काली | महिषासुरमर्दिनि स्तोत्रम् | माता के भजन

यह भी जानें

Bhajan Maa Durga BhajanMata BhajanNavratri BhajanMaa Sherawali BhajanDurga Puja BhajanJagran BhajanMata Ki Chauki BhajanShukravar BhajanFriday BhajanAshtami BhajanGupt Navratri BhajanJeen Bhawani BhajanJeen Mata BhajanRajasthani BhajanKuldevi Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!


इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites


* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें।

और भी बेहतरीन गाने के बोल यहां देखें: यहां देखें

विषय से संबंधित खोजें भजन: लाल ध्वजा लहराये रे, मैया तोरी ऊंची पहड़िया – Bhajan: Lal Dhwaja Lahraye Re Maiya Teri Unchi Pahadiya

#भजन #लल #धवज #लहरय #र #मय #तर #ऊच #पहड़य #Bhajan #Lal #Dhwaja #Lahraye #Maiya #Teri #Unchi #Pahadiya

भजन: लाल ध्वजा लहराये रे, मैया तोरी ऊंची पहड़िया – Bhajan: Lal Dhwaja Lahraye Re Maiya Teri Unchi Pahadiya

हम आशा है कि यह जानकारी आपके लिए बहुत उपयोगी मूल्य लेकर आई है।

आपका बहुत बहुत धन्यवाद

0 comment

You may also like

Leave a Comment