Home » शिव भजन: जगत के सर पर जिनका हाथ, वही है अपने भोले नाथ – Jagat Ke Sar Par Jinka Hath Vahi Hai Apne Bholenath | भारत की अग्रणी गीत गीत साइट

शिव भजन: जगत के सर पर जिनका हाथ, वही है अपने भोले नाथ – Jagat Ke Sar Par Jinka Hath Vahi Hai Apne Bholenath | भारत की अग्रणी गीत गीत साइट

by Brahma Aditya

शिव भजन: जगत के सर पर जिनका हाथ, वही है अपने भोले नाथ – Jagat Ke Sar Par Jinka Hath Vahi Hai Apne Bholenath | गाने के बोल हर दिन अपडेट होते हैं


Add To Favorites

जगत के सर पर जिनका हाथ,
वही है अपने भोले नाथ,
जिन चरणों में सदा झुकाती,
जिन चरणों में सदा झुकाती,
सारी दुनिया माथ,
वही है अपने भोले नाथ,
वही है अपने भोले नाथ ॥

श्रष्टि के पालक तुम ही,
कुशल संचालक तुम ही,
तुम्ही हो जग विस्तारक,
तुम्ही इसके संघारक,
जिनको पाकर कभी ना समझे,
जिनको पाकर कभी ना समझे,
खुद को कोई अनाथ,
वही है अपने भोले नाथ,
वही है अपने भोले नाथ ॥

हिमालय पर तुम रहते,
मार मौसम की सहते,
गले में सर्प लपेटे,
मगन मन रहते लेटे,
भूत प्रेत बेताल हमेशा,
भूत प्रेत बेताल हमेशा,
रहते जिनके साथ,
वही है अपने भोले नाथ,
वही है अपने भोले नाथ ॥

कृपा सब पर बरसाते,
सभी का मन हर्षाते,
भक्त गण जब भी टेरे,
सदा जो दौड़े आते,
अनुज ‘देवेंद्र’ भी पाकर जिनको,
अनुज ‘देवेंद्र’ भी पाकर जिनको,
अब हो गए सनाथ,
वही है अपने भोले नाथ,
वही है अपने भोले नाथ ॥

जगत के सर पर जिनका हाथ,
वही है अपने भोले नाथ,
जिन चरणों में सदा झुकाती,
जिन चरणों में सदा झुकाती,
सारी दुनिया माथ,
वही है अपने भोले नाथ,
वही है अपने भोले नाथ ॥

यह भी जानें

Bhajan Shiv BhajanBholenath BhajanMahadev BhajanShivaratri BhajanSavan BhajanMonday BhajanSomvar BhajanSolah Somvar BhajanJyotirling BhajanShiv Vivah Bhajan

अगर आपको यह भजन पसंद है, तो कृपया शेयर, लाइक या कॉमेंट जरूर करें!


इस भजन को भविष्य के लिए सुरक्षित / बुकमार्क करें Add To Favorites


* कृपया अपने किसी भी तरह के सुझावों अथवा विचारों को हमारे साथ अवश्य शेयर करें।

** आप अपना हर तरह का फीडबैक हमें जरूर साझा करें, तब चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक: यहाँ साझा करें।

और भी बेहतरीन गाने के बोल यहां देखें: यहां देखें

विषय से संबंधित खोजें शिव भजन: जगत के सर पर जिनका हाथ, वही है अपने भोले नाथ – Jagat Ke Sar Par Jinka Hath Vahi Hai Apne Bholenath

#शव #भजन #जगत #क #सर #पर #जनक #हथ #वह #ह #अपन #भल #नथ #Jagat #Sar #Par #Jinka #Hath #Vahi #Hai #Apne #Bholenath

शिव भजन: जगत के सर पर जिनका हाथ, वही है अपने भोले नाथ – Jagat Ke Sar Par Jinka Hath Vahi Hai Apne Bholenath

हम आशा है कि यह जानकारी आपके लिए बहुत उपयोगी मूल्य लेकर आई है।

आपका बहुत बहुत धन्यवाद

0 comment

You may also like

Leave a Comment