Home » Dil Pe Zakhm Lyrics – Jubin Nautiyal | भारत की अग्रणी गीत गीत साइट

Dil Pe Zakhm Lyrics – Jubin Nautiyal | भारत की अग्रणी गीत गीत साइट

by Brahma Aditya

Dil Pe Zakhm Lyrics – Jubin Nautiyal | गाने के बोल हर दिन अपडेट होते हैं

Dil Pe Zakhm lyrics sung by Jubin Nautiyal is the latest Hindi song featuring Gurmeet Choudhary, Arjun Bijlani & Kashika Kapoor. Manoj Muntashir has written the Dil Pe Zakhm song lyrics and Rochak Kohli has given the music for the song. The music video is directed by Ashish Panda.

Dil Pe Zakhm Song Details

Dil Pe Zakhm Lyrics – Jubin Nautiyal

Dil Pe Zakhm Lyrics

Hasta Hua Yeh Chehra
Bas Nazar Ka Dhokha Hai
Tumko Kya Khabar Kaise
Aansuon Ko Roka Hai

Ho Tumko Kya Khabar Kitna
Main Raat Se Darta Hoon
Sau Dard Jaag Uthte Hain
Jab Zamana Sota Hai

Haan Tumpe Ungaliyaan Na Uthe
Isliye Gam Uthaate Hain
Dil Pe Zakhm Khaate Hain

Dil Pe Zakhm Khaate Hain
Aur Muskuraate Hain
Dil Pe Zakhm Khaate Hain
Aur Muskuraate Hain

Kya Batayein Seene Mein
Kis Qadar Dararein Hain
Hum Woh Hain Jo Sheeshon Ko
Tootna Sikhate Hain
Dil Pe Zakhm Khaate Hain

Log Humse Kahte Hain
Laal Kyun Hai Yeh Aankhein
Kuchh Nasha Kiya Hai Ya
Raat Soye The Kuchh Kam

Haan Log Humse Kahte Hain
Laal Kyun Hai Yeh Aankhein
Kuchh Nasha Kiya Hai Ya
Raat Soye The Kuchh Kam

Kya Batayein Logon Ko
Kaun Hai Jo Samjhega
Raat Rone Ka Dil Tha
Phir Bhi Ro Na Paye Hum

Dastakein Nahi Dete
Hum Kabhi Tere Dar Pe

Teri Galiyon Se Hum
Yun Hi Laut Aate Hain
Dil Pe Zakham Khaate Hain

Kuchh Samajh Na Aaye
Kuchh Samajh Na Aaye
Hum Chain Kaise Paye
Baarishein Jo Saath Mein Guzri
Bhool Kaise Jaayein

Kaise Chhod Dein Aakhir
Tujhko Yaad Karna
Tu Jiye Teri Khatir
Ab Hai Kabool Marna

Tere Khat Jala Na Sake
Isliye Dil Jalate Hain

Dil Pe Zakhm Khaate Hain
Aur Muskuraate Hain
Hum Woh Hai Jo Sheeshon Ko
Tootna Sikhaate Hain

Dil Pe Zakhm Khaate Hain
Aur Muskuraate Hain
Dil Pe Zakhm Khaate Hain

Dil Pe Zakhm Lyrics In Hindi

हँसता हुआ ये चेहरा
बस नज़र का धोखा है
तुमको क्या खबर कैसे
इन आंसुओ को रोका है

हो तुमको क्या खबर कितना
मैं रात से डरता हूँ
सौ दर्द जाग उठते हैं
जब जमाना सोता है

हो तुमपे उँगलियाँ ना उठे
इसलिए गम उठाते हैं

दिल पे ज़ख्म खाते हैं
दिल पे ज़ख्म खाते हैं
और मुस्कुराते हैं
दिल पे ज़ख्म खाते हैं
और मुस्कुराते हैं

क्या बतायें सीने में
किस कदर दरारे हैं
हम वो हैं जो शीशों
को टूटना सिखाते हैं
दिल पे ज़ख्म खाते हैं

लोग हमसे कहते हैं
लाल क्यूँ हैं ये आंखे
कुछ नशा किया है या
रात सोये थे कुछ कम

लोग हमसे कहते है
लाल क्यूँ हैं ये आंखे
कुछ नशा किया है या
रात सोये थे कुछ कम

क्या बतायें लोगो को
कौन है जो समझेगा
रात रोने का दिल था
फिर भी रो ना पाए हम

दस्तके नहीं देते
हम कभी तेरे दर पे
तेरी गलियों से हम
यूँ ही लौट आते हैं
दिल पे ज़ख्म खाते हैं

कुछ समझ ना आये
कुछ समझ ना आये
हम चैन कैसे पायें
बारिशें जो साथ में गुज़री
भूल कैसे जाएं

कैसे छोड़ दे आंखे
तुझको याद करना
तू जिये तेरी खातिर
अब है कबूल मरना

तेरे खत जला ना सके
इस लिए दिल जलाते हैं

दिल पे ज़ख्म खाते हैं
और मुस्कुराते हैं
हम वो हैं जो शीशों
को टूटना सिखाते हैं

दिल पे ज़ख्म खाते हैं
और मुस्कुराते हैं
दिल पे ज़ख्म खाते हैं

Written By – Manoj Muntashir

Related Songs

Music Video Of Dil Pe Zakhm Song

We have tried to provide you with the correct Dil Pe Zakhm Lyrics lyrics, however, if you find any corrections, please do let us know in the comments below.

One request?

I put a lot of effort into writing this blog post so that our readers may get the most up-to-date, relevant, and correct lyrics. I’d greatly appreciate it if you’d share it on social media. SHARING IS ❤️.

और भी बेहतरीन गाने के बोल यहां देखें: और देखें

विषय से संबंधित खोजें Dil Pe Zakhm Lyrics – Jubin Nautiyal

#Dil #Zakhm #Lyrics #Jubin #Nautiyal

Dil Pe Zakhm Lyrics – Jubin Nautiyal

हम आशा है कि यह जानकारी आपके लिए बहुत उपयोगी मूल्य लेकर आई है।

आपका बहुत बहुत धन्यवाद

0 comment

You may also like

Leave a Comment